पहाड़ी लघु चित्रकला तथा चम्बा रूमाल प्रतियोगिता, प्रदर्शनी एवं पुरस्कार नियम

उद्देश्य

  1. पारम्परिक पहाड़ी लघु चित्रकला तथा चम्बा रूमाल के कलाकारों तथा षिल्पियों को पुरस्कृत करना।
  2. इन पारम्परिक कला-शिल्पों के संरक्षण तथा विकास के लिए प्रतियोगिता, प्रदर्षनी तथा पुरस्कारों के माध्यम से नए कलाकारों एवं शिल्पियों को भी प्रोत्साहित करना।

रूप-रेखा

  1. पहाड़ी लघुचित्र कला तथा चम्बा रूमाल की अलग-अलग प्रतियोगिताएं अकादमी द्वारा प्रति दूसरे वर्ष आयोजित की जाएंगी।
  2. इन प्रतियोगिताओं के परिणाम घोषित होने से पहले अथवा बाद में इनके लिए प्राप्त चित्रों एवं रूमालों की प्रदर्षनियां अकादमी द्वारा आयोजित की जाएंगी।
  3. पुरस्कार राशि एवं अलंकरण
    1. पहाड़ी लघुचित्र कला तथा चम्बा रूमाल की प्रतियोगिता के लिए पुरस्कार राषि निम्न प्रकार से होगी:-

प्रथम पुरस्कार – रु. 15000.00
द्वितीय पुरस्कार – रु. 7000.00
तृतीय पुरस्कार – रु. 5000.00

2. शाल/मफलर एवं हिमाचली टोपी
3. प्रमाण पत्र

प्रतियोगिता नियम

  1. प्रत्येक चित्रकार/रूमाल षिल्पी को स्वरचित दो.दो लघुचित्र/चम्बा रूमाल प्रविष्टि के रूप
    में देने होंगे।
  2. प्रत्येक लघुचित्र के पीछे/रूमाल के साथ रचनाकार का नाम, जन्म तिथि, स्थायी/पत्र
    व्यवहार का पता एवं दूरभाष, लघुचित्र/रूमाल का शीर्षक एवं मूल्य लिखा होना चाहिए।
  3. प्रतियोगिता के लिए दी जानेवाली ये कलाकृतियांँ इससे पूर्व किसी भी सरकारी/निजी संस्था स ेपुरस्कृत नहीं होनी चाहिएं।

विज्ञापन/प्रविष्टियां

  1. इस योजना के अंतर्गत कलाकारों एवं षिल्पियों से पहाड़ी लघुचित्र तथा चम्बा रूमाल की
    प्रविष्टियां गिरिराज में विज्ञापन देकर आमंत्रित की जाएंगी।
  2. प्रैस विज्ञप्ति के माध्यम से भी योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएगा।
  3. कलाकारों एवं षिल्पियों से भी पत्र-व्यवहार करके प्रविष्टियां आमंत्रित की जा सकेंगी।
  4. अंतिम तिथि घोषित होने के उपरांत प्रविष्टियां स्वीकार्य नहीं होंगी।
  5. निर्धारित प्रविष्टियों से कम प्रविष्टियां प्राप्त होने पर इन्हें केवल आगामी प्रतियोगिता में शामिल किया जा सकेगा।

निर्णायक मंडल

निर्णायक मंडल के लिए निम्न क्रमांक 1 व 7 के अतिरिक्त अन्य दो सदस्यों का चयन निम्नानुसार इस निर्णायक मंडल के अध्यक्ष करेंगे, जिनमें पहाड़ी लघु चित्रकला का कम-से-कम एक सिद्धहस्त कलाकार/विषेषज्ञ का होना अनिवार्य होगा। न मिलने पर ललित कला का अन्य कलाकार/ विषेषज्ञ निर्णायक मंडल में शामिल किए जा सकते हैं।

1. निदेशक भाषा एवं संस्कृति विभाग एवं उप सभापति
कार्यकारी परिषद, अकादमी
अध्यक्ष
2. कार्यकारी परिषद से ललित कला का संबंधित सदस्य सदस्य
3. सामान्य परिषद से ललित कला का संबंधित सदस्य सदस्य
4. राज्य/अकादमी सम्मान से सम्मानित कलाकार सदस्य
5. प्रदेष के विख्यात कलाकार सदस्य
6. पहाड़ी लघु चित्रकला के सिद्धहस्त कलाकार/विषेषज्ञ सदस्य
7. सचिव अकादमी सदस्य सचिव

पुरस्कार समारोह

पुरस्कार वितरण एक समारोह आयोजित कर अथवा किसी कार्यक्रम में किया जाएगा।

यात्रा भत्ता एवं अन्य व्यवस्था पुरस्कृत कलाकारों को यात्रा एवं दैनिक भत्ता, स्थानीय परिवहन व्यय, आयोजन स्थल में परिवहन और आवास एवं भोजन व्यवस्था ‘साहित्यिक आयोजन नियम‘ के मद 4(1 से 6 और 8) के अंतर्गत होगी।

विविध नियम

  1. पुरस्कृत एवं प्रतियोगिता में शामिल कृतियों पर कलाकारों का अधिकार होगा।
  2. प्रतियोगिता के लिए आई कलाकृतियों की प्रदर्षनी के दौरान सभी प्रतिभागी कलाकार विक्रय हेतु अपनी कलाकृति का मूल्य निर्धारित कर सकते हैं।
  3. इन प्रतियोगिताओं के लिए पहाड़ी चित्रकला के कम से कम 10 चित्रकारों तथा चम्बा रूमाल के लिए कम से कम 5 षिल्पियों की प्रविष्टियां होनी चाहिए।
  4. इन प्रतियोगिताओं में जो कलाकार/षिल्पी पुरस्कार प्राप्त करेगा, वह अगली प्रतियोगिता वर्ष को छोड़कर इन प्रतियोगिताओं में पुनः भाग ले सकेगा।
  5. अकादमी तथा भाषा एवं संस्कृति विभाग, हिमाचल प्रदेष के पदस्थों के कार्यरत रहने की अवधि तक वे इन प्रतियोगिताओं में भाग नहीं ले सकेंगे।

नियम संषोधन

इन नियमों में संषोधन करने का अधिकार कार्यकारी परिषद का होगा।