शोध परियोजना अनुदान नियम

उद्देश्य

हिमाचल प्रदेश के प्रतिभावान अध्येता और सक्षम शोधार्थियों को हिमाचल प्रदेष की पारंपरिक एवं समकालीन कलाओं, संस्कृति, भाषाओं और साहित्य की विभिन्न विधाओं में शोध कार्य को प्रोत्साहन प्रदान करना।

सामान्य नियम

  1. इस योजना के अंतर्गत शोधकर्ता स्वयं प्रस्तावित शोध विषय का प्रारूप अथवा अकादमी द्वारा प्रचारित शोध विषय की मौलिकता तथा महत्त्व को दर्षाते हुए विस्तृत रूपरेखा एवं व्यय विवरण अकादमी को विचारार्थ प्रस्तुत करेंगे।
  2. परियोजना की स्वीकृति तथा अधिकतम 20 हज़ार रुपये तक अनुदान राषि का निर्णय कार्यकारी परिषद द्वारा लिया जाएगा।
  3. परियोजना अनुदान की स्वीकृति के पषचात् शोध कार्य एक वर्ष के भीतर पूर्ण करना होगा। विषेष परिस्थितियों में कार्य अवधि बढ़ाए जाने के लिए सचिव अकादमी सक्षम होंगे।
  4. यह शोध प्रबन्ध दो प्रतियों में कम्पयूटर द्वारा टंकित तथा बांईड करके साॅफ्ट कापी सहित अकादमी को देना होगा।
  5. शोध कार्य प्राप्त होने पर विषेषज्ञ विद्वान् से समीक्षा करवाई जाएगी।
  6. समीक्षक विद्वान् को अधिकतम 1000 रुपये तक का मानदेय शोध कार्य के आकार को देखते हुए सचिव अकादमी द्वारा दिया जा सकेगा।
  7. समीक्षक की टिप्पणी के अंतर्गत कार्यकारी परिषद के निर्णयानुसार परियोजना अनुदान की राषि जारी की जाएगी।
  8. शोध कार्य पर अकादमी का सर्वाधिकार होगा।
  9. अकादमी द्वारा इस योजना के अंतर्गत प्राप्त पांडुलिपि को पुस्तकाकार में छपवाया जाना, विषय की उपयोगिता एवं बजट की उपलब्धता पर निर्भर करेगा। प्रकाषित होने पर शोधकर्ता को 10 लेखकीय प्रतियां देय होंगी।

नियमों में संषोधन

इन नियमों में संषोधन करने का अधिकार कार्यकारी परिषद का होगा।