स्वैच्छिक संस्था सम्मान योजना नियम

उद्देश्य

कला, संस्कृति, भाषा एवं साहित्य के क्षेत्र में प्रदेष की संस्थाओं तथा प्रदेष से बाहर की हिमाचल के लोगों द्वारा गठित पंजीकृत स्वैच्छिक संस्थाओं को उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित करना।

संख्या

स्वैच्छिक संस्थाओं को एक सम्मान दिया जाएगा।

सम्मान राशि एवं अलंकरण

  1. प्रत्येक पुरस्कार की राशि 21000/- रुपए होगी।
  2. पुरस्कृत संस्था के अध्यक्ष/सचिव/प्रतिनिधि को शाॅल, टोपी तथा प्रमाण पत्र भेंट किया जाएगा।

विज्ञापन

  1. सम्मान के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित करने हेतु विज्ञापन गिरिराज में प्रकाषित करवाया जाएगा।
  2. प्रैस विज्ञप्ति के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जाएगा।
  3. संस्थाओं को अकादमी द्वारा पत्र भेज कर और ज़िला भाषा अधिकारियों के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जाएगा।
  4. घोषित तिथि के बाद प्राप्त प्रविष्टियां स्वीकार्य नहीं होंगी।

योजना का संचालन

  1. स्वैच्छिक संस्थाओं को अपनी आयोजित गतिविधियों का विस्तृत विवरण, यथा संभव छायाचित्र, समाचार पत्रों की कतरनें व अन्य सबूत आदि प्रविष्टियों के अंतर्गत देने होंगे।
  2. सम्मान हेतु कम-से-कम गत तीन वर्षों से कार्यरत संस्थाओं की प्रविष्टियां स्वीकार्य होंगी।
  3. विज्ञापन प्रकाषित करने से पूर्व प्राप्त प्रविष्टियां भी इस योजना के अंतर्गत शामिल की जाएंगी।
  4. सम्मान का निर्णय लेने के लिए कम-से-कम 10 प्रविष्टियों का होना ज़रूरी है।
  5. दस से कम प्रविष्टियां प्राप्त होने पर इन्हें आगामी वर्ष के पुरस्कार के लिए शामिल किया जाएगा।
  6. सम्मान हेतु निर्णय लेने के लिए संस्था द्वारा आयोजित गतिविधियों में प्रमुखतः निम्नलिखित बिन्दुओं पर विचार किया जाएगा:-
    1. गतिविधियों का विस्तृत विवरण एवं निरंतरता। 2. गुणवत्ता। 3. सृजनात्मकता।

निर्णायक मंडल

प्राप्त प्रविष्टियों को निर्णयार्थ निर्णायक मंडल के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा, जिसमें इसके अध्यक्ष एवं सचिव अकादमी के अतिरिक्त अधिकतम अन्य तीन सदस्यों का चयन इस निर्णायक मंडल के अध्यक्ष की स्वीकृति से निम्नानुसार होगा:-

1.निदेषक, भाषा एवं संस्कृति विभाग, हिमाचल प्रदेष एवं
उप सभापति कार्यकारी परिषद
अध्यक्ष
2.निष्पादन कला के क्षेत्र में सामान्य परिषद से एक सदस्य सदस्य
3.ललित कला के क्षेत्र में सामान्य परिषद से एक सदस्य सदस्य
4.निष्पादन कला में अकादमी सम्मान/राज्य सम्मान प्राप्त
एक कलाकार अथवा हिमाचल प्रदेष का प्रख्यात कलाकार
सदस्य
5.ललित कला में अकादमी सम्मान/राज्य सम्मान प्राप्त
एक कलाकार अथवा हिमाचल प्रदेष का प्रख्यात कलाकार
सदस्य
6.साहित्य के क्षेत्र में सामान्य परिषद से एक सदस्य सदस्य
7.साहित्य के क्षेत्र में अकादमी सम्मान/राज्य सम्मान प्राप्त
साहित्यकार अथवा हिमाचल प्रदेष का प्रख्यात साहित्यकार
सदस्य
8.सचिव अकादमी सदस्य सचिव

सम्मान की स्वीकृति

निर्णायक मंडल के निर्णय की अंतिम स्वीकृति माननीय मुख्यमंत्री एवं अध्यक्ष अकादमी द्वारा प्रदान की जाएगी। तदुपरांत सम्मान घोषित किए जाएंगे।

सम्मान समारोह

  1. सम्मान समारोह का आयोजन किसी कार्यक्रम में होगा।
  2. संस्था के अध्यक्ष/सचिव/प्रतिनिधि को यात्रा एवं दैनिक भत्ता, स्थानीय परिवहन व्यय, आयोजन स्थल में परिवहन, आवास एवं भोजन व्यवस्था ‘साहित्यिक आयोजन नियम‘ के क्रमांक 4 (1 से 6 और 8) के अनुसार होगी।
  3. सामूहिक जलपान की व्यवस्था आमंत्रित अतिथियों आदि के लिए की जा सकेगी।
  4. आयोजन के लिए आमंत्रण एवं प्रचार-प्रसार आदि की व्यवस्था अकादमी द्वारा की जाएगी।

विविध नियम

  1. संस्था का किसी भी संप्रदाय अथवा राजनीति से सीधा संबंध नहीं होना चाहिए।
  2. संस्था का कार्यक्षेत्र तथा गतिविधियां सरकारी नीति के प्रतिकूल नहीं होनी चाहिए।
  3. सम्मानित संस्था को आगामी 3 वर्षों तक पुनः सामान्यतः सम्मान नहीं दिया जाएगा, लेकिन उस सम्मानित संस्था की जिन वर्षों की गतिविधियों को आंका जा चुका है, उसके अगले वर्ष की गतिविधियों के आधार पर यदि वह पुनः उच्च कोटी के अंतर्गत आती है, तो वह संस्था पुनः सम्मान पाने योग्य होगी।
  4. सम्मान हेतु विचारार्थ संस्था के पदाधिकारी सदस्य निर्णायक मंडल में शामिल नहीं होंगे।
  5. पात्र संस्था न मिलने पर उस वर्ष सम्मान नहीं दिया जा सकेगा।

नियमों में संषोधन

इन नियमों में संषोधन करने का अधिकार कार्यकारी परिषद का होगा।